Fiscal Policy Economics Notes | UPSC IAS Exam Preparation

Fiscal Policy Economics Notes | UPSC IAS Exam Preparation

Fiscal Policy Economics Notes | UPSC IAS Exam Preparation

Fiscal Policy Economics Notes | UPSC IAS Exam Preparation

Fiscal Policy Economics Notes | UPSC IAS Exam Preparation

The Fiscal Policy / राजस्व नीति :

Fiscal policy deals with the taxation and expenditure decisions of the government. It is the means by which a government adjusts its spending levels and tax rates to monitor and influence a nation’s economy./राजस्व नीति सरकार के कर व्यय के निर्णयों से सम्बंधित है | यह एक ऐसा माध्यम है जिसके जरिये सरकार देश की अर्थव्यवस्था की देखरेख और प्रभावित करने के लिए अपने खर्च के स्तर और कर के दरों को समायोजित करती है |

Fiscal policy is composed of/ राजस्व नीति निम्नलिखित से मिलकर बना है :

  • tax policy/कर नीति
  • expenditure policy/व्यय नीति
  • investment or/निवेश या
  • disinvestment strategies and/विनिवेश रणनीति और
  • debt or surplus management/कर्ज या अधिशेष प्रबंधन

Fiscal policy is carried out by the legislative and/or executive branches of government./राजस्व नीति सरकार के विधायी और / या कार्यकारी शाखाओं के द्वारा निष्पादित होती है

Functions of Fiscal Policy/राजस्व नीति के कार्य :

Allocative function/आवंटन कार्य :

Public goods (like national defence, roads) are distinct from private goods and must be provided by the government./सार्वजनिक वस्तुएँ ( जैसे राष्ट्रीय रक्षा, सड़कें ) निजी वस्तुओं से भिन्न हैं और इसलिए ये सरकार के द्वारा प्रदान की जानी चाहिए |

Distributive function/वितरक कार्य :

The government affect the income of household by making transfer payments and collecting taxes, therefore, altering the income distribution./सरकार परिवारों के आय को भुगतान के हस्तांतरण और करों के संग्रह द्वारा प्रभावित करती है, इसलिए आय वितरण को परिवर्तित करती है |

Stabilisation requirements/स्थिरीकरण आवश्यकताएँ :

Fluctuations occur in the economy. Ex. During inflation restrictive conditions are needed to stabilise requirements of the domestic economy./ अर्थव्यवस्था उतार-चढ़ाव के अधीन होती हैं | उदाहरण के लिए मुद्रास्फीति के दौरान प्रतिबंधी परिस्थितियाँ घरेलू अर्थव्यवस्था के आवश्यकताओं को स्थिर करने के लिए मददगार होती हैं |

 

Types of Fiscal Policy/राजस्व नीति के प्रकार:

Expansionary Fiscal Policy/विस्तारवादी राजस्व नीति :

  • It is defined as an increase in government expenditure and/ or decrease in taxes that causes government’s budget deficit to increase or its budget surplus to decrease./इसे सकारी व्ययों में वृद्धि और / या करों में कमी से परिभाषित किया जाता है जिससे सरकार के बजट घाटा में वृद्धि होती है या इसके बजट अधिशेष में कमी आती है |
  • In this case, government needs to borrow from domestic or foreign sources, draw upon its foreign exchange reserves or print an equivalent amount of money./ इस मामले में, सरकार को घरेलू या विदेशी स्रोतों से कर्ज लेने की आवश्यकता होती है, इसके विदेशी विनिमय संचयों के लगभग निकालने की आवश्यकता होती है या इसके मात्रा के बराबर मुद्रा को छापने की आवश्यकता होती है |

Impact of Expansionary Fiscal Policy/विस्तारवादी राजस्व नीति का प्रभाव :

  • Excessive printing of money can lead to inflation./अत्यधिक मुद्रा की छपाई मुद्रास्फीति को बढ़ावा दे सकती है |
  • If government borrows lot of money from abroad, it can lead to debt or financial crisis./यदि सरकार विदेश से बहुत ज्यादा रूपये उधार लेती है तो इससे कर्ज में बढ़ोत्तरी या वित्तीय संकट की परिस्थिति आ सकती है |
  • If it draws on its FOREX, a balance of payment crisis may arise./यदि सरकार अपने फोरेक्स से निकासी करती है, भुगतान संकट के संतुलन की परिस्थति आ सकती है |
  • Excessive borrowing from domestic  sources can lead to increase in interest rates./घरेलू स्रोतों से अत्यधिक उधार ब्याज दरों में वृद्धि का कारण बन सकती है |
  • Large fiscal deficit can lead to a negative growth of an economy./बड़ा राजस्व घाटा एक अर्थव्यवस्था के नकारात्मक वृद्धि का कारण बन सकती है |

Contractionary Fiscal Policy/संकुचनकारी राजस्व नीति :

  • It is defined as a decrease in government expenditure and/ or an increase in taxes, that causes the government’s budget deficit to decrease and its budget surplus to increase./इसे सरकारी व्ययों में कमी और / या करों में वृद्धि से परिभाषित किया जा सकता है, जिससे सरकारी बजट घाटे में कमी और इसके बजट अधिशेष में वृद्धि आती है |
  • It is used by the government when an economy is in a boom./यह सरकार द्वारा अर्थव्यवस्था में तब प्रयोग की जाती है जब अर्थव्यवस्था उत्कर्ष पर होती है |

Budget/बजट:

  • It is an estimation of the revenue and expenses over a specified future period of time./यह एक निर्दिष्ट भावी अवधि पर प्राप्ति और व्ययों का अनुमान है |
  • A surplus budget means profit are anticipated./एक अधिशेष बजट का अर्थ है कि लाभ की अपेक्षा की जाती है |
  • A balanced budget means revenues expected are equal to expenses./एक संतुलित बजट का अर्थ है कि अपेक्षित प्राप्तियां खर्चों के बराबर हैं |
  • A deficit budget means expenses will exceed revenues./एक बजट घाटा का अर्थ है कि खर्च प्राप्तियों से अधिक होंगी |

Government Expenditure/सरकारी व्यय:

Plan Expenditure/नियोजित व्यय :

  • Plan Expenditure relates to items dealing with long- term socio- economic goals as determined by the planning process./नियोजित व्यय दीर्घकालीन सामाजिक-आर्थिक लक्ष्यों से सम्बंधित मदों से से सम्बंधित हैं जिनका निर्धारण नियोजन प्रक्रिया द्वारा किया जाता है |
  • They relate to specific schemes and projects./इनका सम्बन्ध निर्दिष्ट योजनाओं और प्रोजेक्ट से हैं |
  • They are usually given through central ministries to state governments for achieving certain desired objectives./ये हमेशा केन्द्रीय मंत्रालयों द्वारा राज्य सरकारों को कुछ अपेक्षित उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए सौंपी जाती है |

Non-Plan Expenditure/गैरनियोजित व्यय :

It covers general economic and social services of the government./यह सरकार के सामान्य आर्थिक और सामाजिक सेवाओं को शामिल करता है |

Non- Plan Revenue Expenditure/गैरनियोजित राजस्व व्यय :

It includes/इसमें हैं :

(a)Interest payments on the loans taken by Government of India/भारत सरकार द्वारा लिए गए ऋणों पर ब्याज भुगतान :

(b)Defence services (except defence equipment)/रक्षा सेवायें ( रक्षा उपकरण के अलावा )

(c)Subsidies/सब्सिडी

(d)Grants to the states and UTs, including those from calamity fund/राज्यों और केन्द्रशासित संघों को अनुदान प्रदान जिसमें आपदा निधि से अनुदान भी शामिल हैं ;

(e)Pensions, Social services such as healthcare, education etc./पेंशन, स्वास्थ्य रक्षा, शिक्षा जैसे सामाजिक सेवाएं

(f)Economic services such as agriculture/कृषि जैसी आर्थिक सेवाएं

(g)Grants to foreign governments/विदेशी सरकारों को अनुदान

Non- Plan Capital Expenditure/गैरनियोजित पूंजीगत व्यय :

It includes/इसमें शामिल हैं :

(a) Defence equipments and modernisation of current ones/रक्षा उपकरण और वर्तमान उपकरणों का आधुनिकीकरण

(b) Loans to Public sector companies; and/सार्वजनिक क्षेत्र कंपनियों को ऋण ; और

(c) Loans to states and Union territories./राज्यों और केन्द्रशासित संघों को ऋण |

Deficit Financing/घाटा वित्तपोषण :

  • The process of financing a deficit budget by the government./यह सरकार द्वारा बजट घाटे को वित्त प्रदान करने की प्रक्रिया है |
  • The government may utilise the amount of money created as the deficit to sustain its budget for developmental or political needs./सरकार सृजित मुद्रा की मात्रा को घाटे के रूप में विकासीय या राजनीतिक जरूरतों हेतु  इसके बजट को सँभालने के लिए उपयोग कर सकती है |
  • It is also known as Public expenditure./इसे सार्वजनिक व्यय से भी जाना जाता है |
  • It can be divided into revenue and capital expenditure./इसे पूंजीगत व्यय और राजस्व व्यय में विभाजित किया जा सकता है |

Revenue Expenditure/राजस्व व्यय :

  • It is the expenditure incurred for purposes other than the creation of physical or financial assets of the central government./ये केन्द्रीय सरकार के वित्तीय या भौतिक संपत्तियों के सृजन के अलावा अन्य उद्देश्यों पर किये जाने वाले व्यय हैं |

It includes/इसमें शामिल हैं :

(a)Expenses incurred for the normal functioning of the government/सरकार के सामान्य कार्यों के लिए किये जाने वाले व्यय

(b) Interest payments on debt incurred by the government, and/कर्ज पर ब्याज भुगतान के रूप में सरकार द्वारा किये जाने वाले व्यय, और

(c) grants given to state governments and other parties./राज्य सरकार और अन्य पक्षों को दिए गए अनुदान |

Revenue Expenditure = Law & Order + subsidies + civil administration + defence + grants to states + interest payments

राजस्व व्यय = कानून और व्यवस्था + सब्सिडी + सिविल प्रशासन + रक्षा + राज्यों को अनुदान + ब्याज भुगतान |

Capital Expenditure/पूंजीगत व्यय :

  • These expenditures are used for creation of physical or financial assets or reduction in financial liabilities./ये व्यय भौतिक या वित्तीय संपत्तियों के सृजन या वित्तीय दायित्वों में कमी के लिए प्रयोग किये जाते हैं |
  • These include expenditure on acquisition of land, building, machinery, equipment, investment in shares./इनमें भूमि, ईमारत, मशीन, उपकरण के अधिग्रहण, अंशों में निवेश पर व्यय शामिल हैं |
  • These also include loans and advances by the central government to state government and union territory governments./इनमें केंद्र सरकार द्वारा राज्य सरकारों और केन्द्रशासित संघों को दिए गए ऋण और अग्रिम भी हैं |

Capital expenditure = Expenditure on infrastructure + repayment of past loans + loans given to state government

पूंजीगत व्यय = सरंचनाओं पर व्यय + भूतपूर्व ऋणों का पुनर्भुगतान + राज्य सरकारों को दिए गए ऋण |

Revenue Receipts/राजस्व प्राप्तियां :

  • The receipts of the government which are non-redeemable , i.e., they cannot be reclaimed from the government./सरकार के वे प्राप्तियां जो गैर-शोधनीय हैं, क्योंकि इन्हें सरकार से दावा नहीं किया जा सकता है |

Revenue Receipts = Tax receipts + Non Tax Receipts

राजस्व प्राप्तियां = कर प्राप्तियां + गैर कर प्राप्तियां

  • Tax receipt include receipts from both direct and indirect taxes./कर प्राप्तियों में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कर दोनों से होने वाले प्राप्तियां शामिल हैं |

Non-tax revenue consists of items such as/गैरकर प्राप्तियों में निम्नलिखित मद शामिल हैं :

(a)Government’s interest income from the loans made to States and Union Territories/राज्य और केन्द्रशासित संघों को दिए गए ऋणों से सरकार की ब्याज की आय

(b)Departmental Undertakings such as railways, post and telegraphs etc./विभागीय उपकम जैसे रेलवे, डाक और टेलीग्राफ इत्यादि |

(c)Dividend income from its ownership of public enterprises/इसके स्वामित्व वाले सार्वजनिक उपक्रमों के लाभांशों के आय से |

(d)Fees and user charges for public services./सार्वजनिक सेवाओं के लिए शुल्क और प्रयोक्ता चार्ज |

(e)Fines, penalties, challans and other minor items./दंड, पेनाल्टी, चालान और अन्य छोटे मद |

Capital Receipts/पूंजीगत प्राप्तियां :

  • All those receipts of the government which create liability or reduce financial assets./सरकाए के वे सभी प्राप्तियां जिससे वित्तीय संपत्तियों में कमी या दायित्वों में सृजन होता है |

It Includes/इसमें शामिल हैं :

(a) Market borrowings i.e.Loans raised by the government from the public. /जनता से सरकार द्वारा लिए जाने वाले ऋण जिसे बाजार उधार कहते हैं ;

(b) Borrowing by the government from the Reserve Bank and Commercial banks and other financial institutions through the sale of treasury bills/खजाना बिल के बिक्री द्वारा रिजर्व बैंक, वाणिज्यिक बैंक और अन्य वित्तीय संस्थाओं से सरकार द्वारा लिया जाने वाला उधार |

(c) Loans received from foreign government and international organisations./विदेशी सरकारों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों से प्राप्त ऋण |

It also includes/इसमें शामिल हैं :

(a)Recoveries of past loans granted by the central government/केंद्र सरकारों द्वारा प्रदान किये गए भूतपूर्व ऋणों की वसूली ;

(b)Small savings (Post- Office Savings Accounts, National Savings Certificate)/छोटी बचतें ( डाकघर बचत खातें, राष्ट्रीय बचत पत्र ) ;

(c) Provident funds; and/भविष्य निधि

(d) Net receipts obtained from the sale of shares in Public Sector Undertakings./सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों में अंशों के बिक्री से प्राप्त होने वाले शुद्ध आगम |

 

Capital Receipts = Disinvestment + sale of assets (land, machinery, 2 G) + recoveries of past loans + market borrowings

पूंजीगत प्राप्तियां = विनिवेश + संपत्तियों की बिक्री ( भूमि, मशीन, 2 जी ) + भूतपूर्व ऋणों की वसूली + बाजारों से उधार |

 

 

Join Frontier IAS Online Coaching Center to prepare for UPSC/HCS/RAS Civil Service comfortably at your home at your own pace/time

HCS(Prelims+Mains+Interview)   HCS Prelims(Paper 1+Paper 2)    IAS+HCS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS+IAS Integrated(Prelims+Mains+Interview)    RAS(Prelims+Mains+Interview)     RAS Prelims     UPSC IAS Prelims      UPSC IAS(Prelims+Mains)

No Comments

Post a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: